Deepfake क्या है?

डीपफेक एक ऐसी तकनीक है जो AI का उपयोग करके मौजूदा चेहरों को किसी दूसरे के चेहरे पर लगाके (सुपरइम्पोज़) करके हूबहू दिखने वाले नकली वीडियो या चित्र बनाती है।

Green Curved Line

Advanced algorithms का उपयोग करते हुए, डीपफेक तकनीक चेहरे के भाव, आवाज और व्यवहार का विश्लेषण और नकल करती है, जिससे ऐसा प्रतीत होता है मानो बदली गई तस्वीर सही/असली है।

यह किस प्रकार काम करता है?

डीपफेक इतने भरोसेमंद हो सकते हैं कि वास्तविक और हेरफेर की गई सामग्री के बीच अंतर करना चुनौतीपूर्ण हो जाता है, जिससे गलत सूचना के बारे में चिंताएं बढ़ जाती हैं।

डीपफेक वीडियोज इतने सटीक होते हैं कि आप इन्हें आसानी से पहचान नहीं सकते।

पता लगाने की चुनौतियाँ

डीपफेक का डिजिटल मीडिया में गोपनीयता, सुरक्षा और विश्वास पर प्रभाव पड़ता है। हमें ऑनलाइन मिलने वाली सामग्री के बारे में सूचित और सतर्क रहना आवश्यक है।

इसका प्रभाव

Advanced technology से भरी दुनिया में, डीपफेक को समझना महत्वपूर्ण है। सतर्क रहें, जागरूक रहें और एक सुरक्षित डिजिटल वातावरण बनाने में योगदान दें।

सावधान रहें

Disclaimer: The information provided on this website is for information purposes only.